Z

Friday, January 12, 2018

मुक्ति!


प्रेम की कश्ती समन्दर ले चला है
और ममता खोजती है छाँव अपनी
अश्क सारे बन रहे अवलंब अपने
दास्तां किसको सुनाये मोह बंधन.

है अगर ये प्रीति सच्ची देह की
तो तुम्हे हम रोक लेंगे मार्ग में ही
हाथ थामे रूह से चलकर मिलेंगे
और उसको सौंप देंगे प्रीति अपनी.

लो संभालो नेह के बंधन रसीले
हम हुए अब मुक्त इस स्थूल जग से
ले चलो गन्तव्य तक अब साथ दो तुम
थक गया हूँ मैं बहुत अब थम लो तुम.

जग है मिथ्या, तन है मिथ्या और मिथ्या रीतियाँ सब
सिर्फ सच्ची रूह है और उसकी खूबियाँ सब
एक डगर जाती वंहा है सब है राही उस डगर के
एक मंजिल , एक मकसद, एक ही रब है सभी के 
छोड़ दो ये आपाधापी , उसकी डोरी थम लो अब 
तोड़ कर सब अर्थ बंधन मुक्त हो कर सांस लो अब.  

(image credit google)




Thursday, January 11, 2018

चाय वाली सुबह! #Tea



तुम्हारी आवाज़ में उगता है मेरा सूरज 

चाय बनाते हुए जब गुनगुनाती हो भोर का गीत
रात के कांटो से फूलों के गलीचों पर उतर आता हूं,
उस फ़ानूसी कप में जब थमाती हो मुझे गर्मागर्म चाय..
मै.... जैसे लौट आता हूं भटकती राहों से,
रात का सपना हो या दिवास्वप्न
मशीनों के साथ जूझते वक्त में
तुम्हारी चाय!
मुझे ज़िंदगी सौंपती है,
जुबां पर इसका स्वाद और तुम्हारी नज़रों की मिठास
पोछ डालती है तल्ख एहसासों को,
हर रोज......  एक और दिन मिलता है जीने के लिये,
सुबह की ये चाय और तुम्हारा साथ....
ज़िंदगी बस इत्ती सी तो है.

(image credit google)

Sunday, January 7, 2018

प्रेम खुद से!


प्रेम के बेतहाशा उफ़ान पर 
उड़ जाती है परवाह!
प्रेम खुद से........  दे जाता है उपहार 
खुद को पा लेने का
प्रेम की राह आसान नहीं
बंदिशें हैं,जिम्मेदारियां हैं
नजरें हैं, सवाल हैं, संदेह हैं
प्रेम ही ज़वाब है... 
प्रेम सच्चा है तो आत्मविश्वास है 
प्रेम उल्लास का राग है
प्रेम ही अलाप है 
प्रेम खुद की रूह का एकालाप है
प्रेम खोल देता है दरवाजे बुलंदियों के 
प्रेम की पदचाप;
मधुर है पर है कठिन 
अजीब है पर सच्ची है
प्रेम की राह पर........ चलते चलें 
इस भीड़ में ज़रा खुद को पाते चलें। 

(Image credit google)

Thursday, January 4, 2018

नदी बहती रहे!


बहती हुयी नदी 
अपने साथ लाती है संस्कृतियों की बाड़, 
न जाने कितने संस्कारों की साक्ष्य बनती है,
जीवन के हर कर्म के साथ साथ रहती है 
प्रेम में पगे जोड़ों के ख़ूबसूरत एहसास 
बहे चले आते हैं नदी के साथ......... कि 
बस जाती है पूरी की पूरी सभ्यता...
विकसित होती हैं परम्पराएं,
नदी के पेट में सिर्फ पानी ही नहीं होता,
दफ़्न  होते हैं न जाने कितने राज़ भी........ 
पहाड़ी साँझ का सूर्य भी बहा चला आता है,
मैदानों के बाजारों में काम की तलाश करता है
खोजता है जीवन की उम्मीद .....कि
ज़िंदगी बहती रहे नदी के साथ.
बड़ी -बड़ी चट्टानें पानी के साथ बहते हुए;
भूल जाती हैं अपना शिलापन,
हजारों मील के सफर में 
गायब हो जाता है उनका नुकीलापन
छोटे-छोटे चिकने पत्थर बन  
नन्हे हांथों के खिलौने हो जाती हैं,
नदी ही धार.... 
कभी काटती है, उखाड़ती है 
तो कभी बसाती है.... 
भूख में ,प्यास में ,सृष्टि के विकास में 
नदी ही सहारा है,
बची रहेगी नदी तो बची रहेंगी सभ्यताएं,
नालों में तब्दील होती नदियाँ 
दे रहीं दरख्वास्त!
ज़िंदा रखो हमें भी 
अपने साथ -साथ।।

(picture credit google)