Tuesday, December 5, 2017

टहनियों की पंहुच



उसके साथ आलिंगनबद्ध होने पर भी,
खींच ही लाती हैं मेरी टहनियां तुम्हे
और वो तकती है मेरी राह
कि कब पंहुचेगे मेरे हाथ उसके तने तक
जानती नहीं
परजीवी हूँ 
जीती हूं तुम्हारा ही रस पीकर
तुम्ही से है मेराअस्तित्व
और वो!
धरा है
तुम्हारा आधार
छोड़ नहीं सकते उसे
और मुझे भी
तुम उससे जीते हो
और मै तुमसे.

(image credit google)

    

2 comments:

  1. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 04 फरवरी 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete

खलल (तीन कवितायेँ)

१.  ज़िंदगी से जूझ कर मौत से युद्ध कर  ऐ दुनिया!  इंसान को इंसान से मिला, खलल पैदा कर  इस अनवरत चक्र में, वक्त के पाटों म...