Tuesday, November 28, 2017

जूठी प्लेटो का इंतज़ार


6 comments:

  1. शुक्रिया नदीश जी

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. बहुत मर्मान्तक है आपके शब्द- प्रिय अपर्णा | आँखें नमी से बोझिल हो गयी और खुद से नजरे चुराने लगी | यही है सभ्य समाज का वीभत्स सत्य !

    ReplyDelete
  4. जीवन के हर पहलू का सत्य!!!! आपकी लेखनी और लेखन कमाल कमाल कमाल।
    शुभ संध्या ।

    ReplyDelete
  5. कडुवा सत्य,ना जाने कैसे इतनी असमानताएं बड़ गई,जुठे भोजन के लिए भी इंसानियत भर्ती हैं हर रोज .. मार्मिक अहसास.!!

    ReplyDelete