Tuesday, October 17, 2017

#दीवाली #Festival


5 comments:

  1. नमस्ते, आपकी यह प्रस्तुति "पाँच लिंकों का आनंद" ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में गुरूवार 19-10-2017 को प्रातः 4 :00 बजे प्रकाशनार्थ 825 वें अंक में सम्मिलित की गयी है। चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर। सधन्यवाद।

    ReplyDelete
  2. बहुत आभार आपका आदरणीय.
    सादरl`}

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर
    शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया कविता जी.
      आपको भी दीपावली की शुभकामनायें.

      Delete
  4. सुंदर रचना । आपको एवं आपके पूरे परिवार को दीपपर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete

माँ बनना.... न बनना

लेबर रूम के बेड पर तड़पती हुई स्त्री  जब देती है जन्म एक और जीव को  तब वह मरकर एक बार फिर जन्म लेती है अपने ही तन में, अपने ही ...