Sunday, September 17, 2017

दूसरी औरत से प्रेम



वो जो चली गयी है अभी अभी तुम्हे छोड़कर,
है बड़ी हसीन !
जैसे नए बुनकर की उम्मीद,
उँगलियों से बुने महीन सूत के जोड़ सी। 
जब भी तुम चूमना चाहते हो मुझे,
उसके होंठ..... 
मुझे तुम्हारे होठों पर नज़र आते हैं;
और उसके गालों का गुलाबीपन .....
छा जाता है मेरे वजूद पर.
उसके इत्र की खुशबू .......
कमबख्त जाती ही नहीं इस कमरे से .
जब भी थामना चाहती हूँ तुम्हारा हाँथ........
उसकी नाज़ुक उंगलियाँ 
मेरे तन में सरगम छेड़ देती हैं.
वो हार तो गयी है मुझसे ....
हमारे जायज़ रिश्ते को बचाने के लिए;
पर मै उसके प्रेम में गुम सी गयी हूँ.

(picture credit- google)

7 comments:

  1. गुम होता है पर है तो सही,

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  3. गज़ब की बेबाक अभिव्यक्ति आपकी अपर्णा जी।
    अलग विषय पर आपका लेखन नयापन लिये हुये।

    ReplyDelete
  4. आभार श्वेता जी, कविता पर विचार व्यक्त करने के लिये. सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब ... कल्पना कहा कहाँ तक जाती है ...
    कोई बंधन रिश्ता नहीं देखती प्रेम की मार ...

    ReplyDelete
  6. Nice post ... keep sharing this kind of article with us......visit www.dialusedu.blogspot.in for amazing posts ......jo sayad hi aapne kbhi padhe ho.....ek bar jarur visit kren

    ReplyDelete

दूर हूँ....कि पास हूँ

मैं बार-बार मुस्कुरा उठता हूँ  तुम्हारे होंठो के बीच, बेवज़ह निकल जाता हूँ तुम्हारी आह में, जब भी उठाती हो कलम लिख जाता हूँ तुम...