Monday, August 14, 2017

आज़ादी का जश्न


1 comment:

  1. क्या बात है। 'शब्दों के पुलिंदे'तेल नमक लगाकर डकार सकते हैं। चौराहे पर पसरी क्रांति का जश्न।
    बड़ा अलंकारिक प्रयोग। इस कारण उग्रता में उष्णता आ गयी। बढ़ियाँ।

    ReplyDelete

दूर हूँ....कि पास हूँ

मैं बार-बार मुस्कुरा उठता हूँ  तुम्हारे होंठो के बीच, बेवज़ह निकल जाता हूँ तुम्हारी आह में, जब भी उठाती हो कलम लिख जाता हूँ तुम...