Friday, July 28, 2017

शौक-ए-हमसफर


2 comments:

  1. very informative post for me as I am always looking for new content that can help me and my knowledge grow better.

    ReplyDelete

दूर हूँ....कि पास हूँ

मैं बार-बार मुस्कुरा उठता हूँ  तुम्हारे होंठो के बीच, बेवज़ह निकल जाता हूँ तुम्हारी आह में, जब भी उठाती हो कलम लिख जाता हूँ तुम...