Thursday, May 17, 2018

माँ बनना.... न बनना

लेबर रूम के बेड पर तड़पती हुई स्त्री 
जब देती है जन्म एक और जीव को 
तब वह मरकर एक बार फिर जन्म लेती है
अपने ही तन में,
अपने ही मन में,
उसके अंतस में अचानक बहती है एक कोमल नदी
जिसे वह समझती है धीरे धीरे;
लेकिन दुनिया उस नदी की धार से 
हरिया जाती है,
माँ बनना आसान नहीं होता

और

माँ न बनना....
उससे भी ज्यादा कठिन,
सवालों और तिरछी नज़रों के जख़्म 
लेबरपेन से ज्यादा कष्टकारी होते है,
कि दुनिया हर उस बात के लिए सवाल करती है
जो आप नहीं होते...
औरत के लिए माँ बनना न बनना
उसकी च्वाइस है
न कि उसकी शारीरिक बाध्यता.
यदि न दे वो संतान को जन्म 
स्त्री का ममत्व मर तो नहीं जाता 
न ही सूख जाती है
उसकी कोमल भावनाओं की अन्तःसलिला
औरत जन्म से ही माँ होती है
सिर्फ तन से नहीं
मन से भी..

(Image credit Pixabay)





Monday, May 14, 2018

मैंने देखा है.... कई बार देखा है


मैंने देखा है,
कई बार देखा है,
उम्र को छला जाते हुए,
बुझते हुए चराग में रौशनी बढ़ते हुए,
बूढ़ी आँखों में बचपन को उगते हुए
मैंने देखा है...
कई बार देखा है,
मैंने देखा है 
बूँद को बादल बनते हुए,
गाते हुए लोरी बच्चे को
माँ को नींद की राह ले जाते हुए,
मैंने देखा है,
कई बार देखा है...
एक फूल पर झूमते भंवरे को;
उदास हो दूसरी शाख़ पर मंडराते हुए,
सूखते हुए अश्क़ों को
गले में नमी बन घुलते हुए,
मैंने देखा है
कई बार देखा है....
शब्द को जीवन हुए
कंठ को राग बन बरसते हुए,
उँगलियों को थपकी बन
कविता की शैया पर सोते हुये,
मैंने देखा है.....
कई बार देखा है
जब जब देखती हूँ कुछ अनकही बातें
लगता है जैसे 
कुछ भी नहीं देखा है...
कुछ भी नहीं देखा है ...

(Image credit to Pinterest)




Wednesday, May 9, 2018

Saturday, May 5, 2018

इंतज़ार एक किताब का!


उसने मुझे बड़ी हसरत से उठाया था,
सहलाया था मेरा अक्स,
स्नेह से देखा था ऊपर से नीचे तक, 
आगे से पीछे तक,
होंठों के पास ले जाकर
हौले से चूम लिया था मुझे 
और.... बेसाख्ता नज़रें घुमाई थीं चारों ओर
कि...... किसी ने देखा तो नहीं!
 मैं ख़ुश थी उन नर्म हथेलियों के बीच 
कितनी उम्मीद से घर आयी थी उसके 
कि.... अब रोज 
उन शबनमी आंखों का दीदार होगा, 
 उन नाज़ुक उँगलियों से छुआ जाएगा
मेरा रोम-रोम
पर......
मैं बंद हूँ इन मुर्दा अलमारियों के बीच 
मेरी खुशबू मर गयी है,
ख़त्म हो रहे हैं मेरे चेहरे के रंग....
लाने वाली व्यस्त है घर की जिम्मेदारियों में....
बस 
एक तड़प बाक़ी है,
उसकी आँखों में मुझे छूने की, 
वो काम की कैद में है 
और मैं अलमारी की ....
वो मुझे चाहती है, 
और मैं उसे, 
इन्तजार है, 
उसे भी, 
मुझे भी,
एक दूसरे के साथ का!

(Image credit google)





Monday, April 30, 2018

हिंदी कविता - दुनिया का सच

मेरी कविता 'दुनिया का सच' सुनें मेरी आवाज़ में जो की सामाजिक बाज़ार में स्त्री की व्यथा से आपको रूबरू करवाती है।

आपकी प्रतिक्रियाएं मेरे लिए अमूल्य हैं 
कृपया अपनी प्रतिक्रियाएं अवश्य दें ताकि इस नयी राह पर आपके सुझावों का हाँथ पकड़ कर आगे बढ़ सकूं।

Tuesday, April 24, 2018

दूर हूँ....कि पास हूँ


मैं बार-बार मुस्कुरा उठता हूँ 
तुम्हारे होंठो के बीच,
बेवज़ह निकल जाता हूँ तुम्हारी आह में,
जब भी उठाती हो कलम
लिख जाता हूँ तुम्हारे हर हर्फ़ में,
कहती हो दूर रहो मुझसे....
फ़िर क्यों आसमान में उकेरती हो मेरी तस्वीर?
संभालती हो हमारे प्रेम की राख; 
अपने ज्वेलरी बॉक्स में,
दूर तो तुम भी नहीं हो ख़ुद से
फ़िर मैं कैसे हो सकता हूँ?
तुम्हारे तलवे के बीच
वो जो काला तिल है न;
मैं वंही हूँ,
निकाल फेंको मुझे अपने वज़ूद से, 
या यूँ ही पददलित करती रहो,
उठाओगी जब भी कदम,
तुम्हारे साथ -साथ चलूंगा,
और तुम!
धोते समय अपने पैर,
मुस्कुराओगी कभी न कभी.

#अपर्णा बाजपेई

(Image credit to dretchstorm.com)




Thursday, April 19, 2018

झूठे बाज़ार में औरत


एक पूरा युग
अपने भीतर जी रही है स्त्री,
कहती है ख़ुद को नासमझ,
उगाह नहीं पायी अब तक
अपनी अस्मिता का मूल्य,
मीडिया की बनाई छवि में
घुट-घुट कर होंठ सी लेती है स्त्री,
सड़कों पर कैंडल मार्च करती भीड़ में
असली भेड़ियों को पहचान लेती है स्त्री 
चुप है,
कि उसके नाम पर 
उगाहे जा रहे हैं प्रशस्ति पत्र,
रुपयों की गठरियाँ सरकाई जा रही हैं
गोदामों में,
स्त्री विमर्श के नाम पर
झूठ के पुलिंदों का
अम्बार लग रहा है,
लोग खुश हैं!
कि रची जा रही है 
स्त्री की नई तस्वीर,
खोजती हूँ
कि इस तस्वीर से 
आम औरत ग़ायब है?

(Image credit google)


माँ बनना.... न बनना

लेबर रूम के बेड पर तड़पती हुई स्त्री  जब देती है जन्म एक और जीव को  तब वह मरकर एक बार फिर जन्म लेती है अपने ही तन में, अपने ही ...